उत्तरी भारत का नंदनकानन है खूबसूरत पिंजौर गार्डन

उत्तरी भारत का नंदनकानन है खूबसूरत पिंजौर गार्डन

पिंजौर राजा विराट की नगरी थी और पहले इसका नाम पंचपुर था, जो बाद में पिंजौर के नाम से मशहूर हुआ। राजा विराट प्रजापालक, धर्मात्मा और दयालु प्रकृति के शासक थे। यहां 365 बावडि़यां बनी हुई थी, जो बाद में लुप्त हो गई। प्राचीन हिंदू मंदिरों, जलकुंडों के चिह्नों और धरती के नीचे से निकली देवी-देवताओं की प्रतिमाओं से प्रतीत होता है कि यह एक पवित्र एवं दर्शनीय धर्मस्थल रहा होगा। ऐतिहासिक दृष्टि से पिंजौर का संबंध आर्यों के समय से है, जब इस गांव में भीमा देवी मंदिर का निर्माण हुआ था। यह पांडवों के वनवास का समय था। इतिहासकार बताते हैं कि तभी यह जगह पंचपुरा कहलाई थी। पिंजौर का द्रोपदी कुंड भी बहुत ही मशहू है। कहा जाता है कि द्रोपदी इसी कुंड में स्नान किया करती थी। 13वीं शताब्दी के मध्य पिंजौर सिरमौर के राजा के अधीन था। शमसुद्दीन इल्तुमिश इस स्थान के सौंदर्य से इतने प्रभावित हुए कि उसने सिरमौर के राजा से यह क्षेत्र छीन लिया। बाद में यह राजा रत्‍‌नसेन के पास चला गया। लेकिन जब जनवरी 1399 ई. में तैमूर दिल्ली से वापस जा रहा था, तो उसने राजा रत्‍‌नसेन से यह क्षेत्र छीन कर वहां खूब लूटमार की। इस तरह पिंजौर और आस-पास का क्षेत्र बहुत सालों तक जीत-हार तथा लूट-खसोट का क्षेत्र बना रहा।

औरंगजेब के भाई फिदाई खान ने 1661 ई. में पिंजौर पर अधिकार कर लिया। फिदाई खान शिल्पकारी और भवन निर्माण कला में सिद्धहस्त था। उसने लाहौर के शालीमार बाग के नमूने पर पिंजौर मुगल गार्डन बनवाया और कई भवन भी निर्मित करवाए, जो 400 साल गुज़र जाने पर भी अपनी सुंदरता को बरकरार रखे हुए हैं। कहा जाता है कि फिदाई खान प्रकृति और सौंदर्य के पुजारी थे। उन्हें पिंजौर के झरने इतने भा गए थे कि उसने इस पहाड़ी क्षेत्र में ही अपना आमोद स्थल बनाने का इरादा कर लिया, निर्माण कार्य पूरा होने के बाद नवाब और उसकी बेगम यहां रहने आ गए। लेकिन सिरमौर के राजा को नवाब का बसना रास नहीं आया। उसने नवाब को भगाने की एक तिकड़म सोची। राजा ने घेंघा रोग से पीडि़त कुछ स्त्रियों को फल बेचने के बहाने बेगम के पास भेजा। बेगम ने उनसे उनके सूजे हुए गलों के बारे में पूछा तो उन स्त्रियों ने झूठ-मूठ में कह दिया कि इस इलाके का पानी दूषित है। उसी से उन्हें यह बीमारी लगी हैं। बेगम यह सुनकर इतनी घबरा गई कि तुंरत महल छोड़ने की तैयारी कर डाली।

यह सीढ़ीनुमा उद्यान चार मंजिलों में बंटा हुआ हैं। थोड़ी-थोड़ी दूर पर बने फव्वारों वाली सात-आठ फीट चौड़ी नहर इन चारों मंजिलों में से गुजरती है। यहां के फव्वारे और पटियाला नरेश द्वारा बनवाए गए एकांत विलास-गृह सौलानियो का मन मोह लेते हैं। इसमें विभिन्न प्रकार के वृक्ष, देश विदेश की विविध प्रजातियों के पुष्प, जल-प्रपात, मखमली घास, लता कुजं और पक्षियों का कलरव सौलानियों को मंत्रमुग्ध कर देता है। पहले यह बाग गुलाब के फूलों के लिए विशेष रूप से प्रसिद्ध था। पिंजौर उद्यान में रंग महल, शीश महल और जलमहल ‘चार बाग’ शैली में निर्मित हैं। इस गार्डन में निर्मित रंग महल और शीश महल पर्यटकों के विश्राम के लिए खोल दिए गए हैं। जलमहल को एक खुले रेस्तरां का रूप दे दिया गया हैं। उद्यान में एक लघु चिडि़याघर है, जिसमें अनेक तरह के जीव जंतु देखने को मिलते हैं। रात को रंग बिरंगी रोशनी में इसका आकर्षण और भी बढ़ जाता हैं। इस गार्डन में फिल्मों की शूटिंग भी होती रही हैं। उद्यान के अलावा पिंजौर व उसके आसपास अनेक मंदिर, गुरूद्वारा एवं मस्जिद भी दर्शनीय हैं।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s